अपने बजट से 50 गुना ज्यादा कमाने वाली फिल्म – द गॉडफादर

kyun-the-godfather-movie-sabse-achi-movie-hai
Spread the love

बॉक्स ऑफिस में धमाल मचने वाली मूवी द गॉडफादर और कम बजट में ज्यादा कमाने वाली मूवी थी द गॉडफादर। यह मूवी 6 मिलियन डॉलर में बानी थी और जिसने कमाए थे 250 मिलियन डॉलर यानि 50 गुना ज्यादा कमाने वाली यह पहली मूवी थी।

द गॉडफादर एक नावेल है जिसे मारियो प्यूज़ो ने लिखा है, यह बुक प्रकाशित हुई थी 1969 में. 

रेटिंग
द गॉडफादर को 9.2 रेटिंग और 15,00,000 से ज्यादा वोट मिले हैं IMDB पे। रोटेनटोमाटोएस पे इसे 98% फ्रेश कहानी तथा 98% दर्शको को यह फिल्म पसंद आयी है और गूगल पे इसे 92% दर्शको ने लाइक दिया है।

द गॉडफादर: मूवी एक्सप्लैनड
द गॉडफादर एक 1972 की अमेरिकन थ्रिलर फिल्म है जोकि मारियो प्यूज़ो की नावेल द गॉडफादर पर आधारित है। इसे फ्रांसिस फोर्ड कोप्पोला ने निर्देशित किया है और यह एक ऐतिहासिक फिल्म है। द गॉडफादर एक क्राइम ड्रामा फिल्म है जिसे वर्ल्ड सिनेमा हिस्ट्री में ओने ऑफ़ द अच्छी मूवी में गिना जाता है। इसे एग्यारह ऑस्कर केटेगरी के लिए नॉमिनेट किया गया था. जिसमे से इस मूवी ने छेह जीते थे।

द गॉडफादर कौन है?
गॉडफादर वह व्यक्ति होता है जोकि किसी के माता पिता की मृत्यु के हालात में किसी को उसके विकल्प के रूप में माता पिता की तरह ही पालन पोषण की सहमति दे दी जाती है। इस फिल्म के माध्यम से दिखाया गया है की वीटो कोरलियॉन जो अपने बेटो को अपने पद में लाने के खातिर, अपने पद को बनाए रखने की कोशिश कर रहा है। यहाँ पर गॉडफादर वीटो और माइकल को माना गया है।

फिल्म का अंत एक्सप्लेन
फिल्म के अंत में माइकल अपनी बहन के बचे के नामकरण संस्कार में चर्च में होता है और उसी समय बहुत से लोगो को बेरहमी से मारा जा रहा होता है. यहाँ हमें उसके बनावटी और असल दोनों चेहरे दिखाए जाते हैं, और आख़िरकार हम देखते हैं की माइकल अब क्या बन चूका है।
आखिर में माइकल अपनी बीवी से झूट बोलता है की उसने कार्लो को नहीं मरवाया जोकि यह दर्शाता है की उसने अपना असली काम शुरू कर दिया है वह अपनी बीवी को अपनी सचाई और निर्दयता नहीं देखने देता। जब आखिर में केपोज माइकल से मिलने आता हैं तो वह माइकल को डॉन नाम से बुलाते है। इस सीन से यही पता चलता है की माइकल दो जिन्दगियां जियेगा एक डॉन की और एक एक फॅमिली मेंन की।

फिल्म पर एक नज़र
यह कहानी 1945 से 1955 की अवधि में इटालियन और अमेरिकन परिवार कोरलियॉन को दर्शाती है जहाँ उनका आपराधिक संघर्ष के सांथ-सांथ पारिवारिक संघर्ष को सामने रखता है, यही कारण है जो इसे और फिल्मो से अलग करता है। 1945 की गर्मियों में डॉन वीटो कोरलियॉन की बेटी की शादी हो रही है, जहाँ हर कोई उत्शाह मन रहा है।

Vito-ki-beti-ki-shadi

उसी समय जॉनी आता है जोकि वीटो कोरलियॉन का रिश्तेदार है जोकि एक सिंगर है, जोकि हॉलीवुड में कमबैक करना चाहता है। यही बात वो वीटो कोरलियॉन से कहता है मुझे बहुत बड़ा सिंगर बनना है तो मुझे डायरेक्टर की मूवी में काम करना है लेकिन वह मुझे मूवी में ले नहीं रहा, वीटो बोलता है की वह उसकी मदद जरूर करेगा और वीटो कोरलियॉन अपना वकील उस डायरेक्टर के पास भेजता है करता है की वह जॉनी को अपने में मौका दे, यदि उसने ऐसा नहीं किया तो वो उसे मार देगा।लेकिन यहाँ डायरेक्टर उल्टा वीटो को ही धमका देता है और बोलता है की वह किसी से नहीं डरता। उस डायरेक्टर को घोड़ो का बहुत शौक होता है और उसके पास बहुत से महंगे घोड़े भी होते हैं और उनमे से एक घोडा उसे बहुत पसंद होता है। अगले सीन में डायरेक्टर सो रहा होता है और वह जब वह उठता है तो देखता है की उसके पसंदीदा घोड़े का सिर उसके बिस्तर पर पड़ा हुआ है इससे वह बहुत घबरा जाता है और उस सिंगर को फिल्म में ले लेता है।

वीटो कोरलियॉन डॉन माफिया परिवार में से सबका हेड था और बहुत ही खतरनाक इंसान था पर उसके भी कुछ उसूल हैं, उसके लिए परिवार सब कुछ है। यह करेक्टर इतना डिटेल में था की स्क्रीन पे इतने कम टाइम के बावजूद भी वीटो के किरदार बेस्ट केटेगरी में रखा गया। कोई भी आइकोनिक किरदार ऐसे ही आइकोनिक नहीं बन जाता उसके पीछे पूरी एक स्टोरी होती है जो इस फिल्म में थी।

वीटो कोरलियॉन अमेरिका का सबसे बड़ा डॉन है, उसके बहुत तरह के बिज़नेस हैं और वह बहुत सरे काले धंधे में भी है। ड्रग्स डीलिंग और कॉन्ट्रैक्ट किलिंग में सबसे बड़ा नाम वीटो कोरलियॉन का है, वीटो के तीन बेटे हैं जिनमे सबसे बड़ा बेटा जिसका सोनी कोरलियॉन है। सोनी और फ्रेडो कोरलियॉन जो अपने पिता वीटो के धंधे में काम करते हैं लेकिन फ्रेडो कोरलियॉन को बचपन से एक बीमारी है जिसके चलते वह अपने माँ के सांथ ही रहता है, तीसरा बेटा माइकल जोकि शांत स्वाभाव का है और वह एक सोल्जर रह चुका है।

कहानी की शुरुआत होती है कॉन्ट्रैक्ट किलिंग से जहाँ एक आदमी अपनी बेटी के सांथ हुए रेप के बारे में बताता है की वह जिस लड़के से प्यार करते है उसने और उसके दोस्तों ने उसकी बेटी का रेप किया है और कोर्ट केस में उसको फंसा कर वह लोग छूट गए हैं। वीटो कोरलियॉन का करैक्टर एक किलर करैक्टर दिखाया गया है।

साइलेंट किलर से प्रसिद्व किरदार –

माइकल कोरलियॉन वीटो का तीसरा बेटा होता है, जोकि परिवार के सरे सदस्यों से काफी अलग होता है और वह अपनी फॅमिली बिज़नेस को ज्वाइन नहीं करना चाहता है। वह यह भी कहता है की वह कभी बुरे काम नहीं करेगा। माइकल की एक गर्लफ्रेंड होती है जिसका नाम के होता है।

micheal-the-silent-killer

माइकल अपने फॅमिली बिज़नेस में बिलकुल भी रूचि नहीं रखता है। लेकिन धीरे धीरे कुछ ऐसा होता है की माइकल साइलेंट किलर के नाम से प्रसिद्व हो जाता है और अपने पिता वीटो की मुर्त्यु के बाद वही कोरलियॉन फैमिली का नया डॉन बनता है जिनकी शुरुआत होती है वीटो कोरलियॉन पे हुए जानलेवा हमले के बाद विवाद इतना बढ़ जाता है की वह अपने बहन के पति को भी मरवा देता है।

मूवी में प्रतिष्ठित और प्रतीकात्मक चीज़ो को दिखाया जाना।

असली घोड़े का सिर – मूवी का एक सीन जिसमे घोड़े का कटा हुवा सर दिखाया जाता है वह प्रोप नहीं होता है वह असली में ही घोड़े का सर होता है जोकि इस मूवी का प्रतिष्ठित सीन में से एक था, जिससे इस सीन की गंभीरता को और ज्यादा बढ़ा देता है।

गॉडफादर बनना – नामकरण संस्कार वाला सीन जिसमे दो खास चीज़े होती हैं, माइकल सोनी के बेटे का गॉडफादर बनता है और वीटो का बीटा होने के नाते कोरलियॉन फॅमिली का गॉडफादर भी बनता है.

बदले की आग – कहते हैं की बदला एक ऐसी चीज़ होती है जिसे ठंडा ही परोसना अच्छा होता है पर माइकल हमेशा इस चीज़ को फॉलो नहीं करता। लेकिन अंत में जरूर करता है जिससे वह अपने दुश्मनो को मरता है। आमतौर पर बदले पर बानी फिल्म को कुछ अलग ही तरीके से दिखाया जाता है।

रीति रिवाज और परम्परा – कोरलियॉन फॅमिली अब अमेरिका में है जो उनके लिए एक नै दुनिया जैसी है। वो अपने पुराने तौर तरीको पर अमल करते हैं। वह अपनी परेशानी को लेकर अमेरिकन लोकतंत्र या कानून के पास नहीं जाते बल्कि उन्हें वे अपनी ताकत और निष्ठाओं जैसे पुराणी धारणाओं में रहकर सुलझाते हैं.

झूट और फरेब – झूट और फरेब इस मूवी का अटूट हिस्सा है जो पूरी मूवी में देखने को मिलता है। एक कहावत है की झूट का कोई इमाम नहीं होता जैसे की डॉन का ड्रग्स के प्रति रवैया और माइकल के गॉड का जो की माइकल को मारने की कोशिश करता है लेकिन माइकल की बीवी मारी जाती है, कार ब्लास्ट में।

कोरलियॉन फॅमिली का वफादार केसियो एक गद्दार निकलता है और उनके दुश्मनो की तरफ मिल जाता है।

परिवार से बढ़कर कुछ नहीं – कोरलियॉन फॅमिली का एक उसूल है जो हमें माइकल के डायलाग से पता चलता है की जब उसका भाई फेजों परिवार से बहार चला जाता है और वह कहता है दुबारा उसका पक्ष मत लेना जो परिवार के खिलाफ हो किसी और से वफादारी की तुलना में परिवार से वफादारी जरूरी है।

आपको यह एक्सप्लनेशन कैसा लगा जरूर कमेंट बॉक्स में बताएं.
अगर आपके पास कुछ सुझाव या शिकायत है तो हमें digitalworldreview@gmail.com पर मेल करें


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *