द गर्ल ऑन द ट्रैन फिल्म का रिव्यू – the girl on the train film ka review hindi mein, फिल्म क्या अच्छा है और क्या बुरा, किरदार, फिल्म की कहानी का प्लाट।

the-girl-on-the-train-film-ka-review-hindi-mein-kirdar-kahani
Spread the love

द गर्ल ऑन द ट्रैन फिल्म का रिव्यू – the girl on the train film ka review hindi mein 
नेटफ्लिक्स पर इस समय में काफी अच्छे कंटेंट उपलब्ध हैं जिसमे से देखने के लिए एक अच्छी फिल्म है द गर्ल ऑन द ट्रैन फिल्म (the girl on the train) बस अंतर यह है की हम पुरानी फिल्म के बारे में बात कर रहे हैं परिणीति चोपड़ा पर आधारित फिल्म की नहीं क्यूंकि जैसे ही हम पुरानी फिल्म को देखने के बाद द गर्ल ऑन द ट्रैन फिल्म का रिव्यू (the girl on the train review hindi mein) करते हैं तो इस नई फिल्म में बहुत सारी कमियां देखने को मिलती है।

द गर्ल ऑन द ट्रैन फिल्म (the girl on the train) में परिणीति चोपड़ा मुख्य भूमिका में है और इस फिल्म को डायरेक्ट किया है ऋभु दासगुप्ता ने जोकि ठोस और सामाजिक मुद्दों को लेकर फिल्म बनाने के लिए जाने जाते हैं। यह फिल्म एक पुरानी फिल्म रीमेक है जोकि इसी नाम से 2016 में आयी थी और वह पुरानी फिल्म ब्रिटिश लेखक पाउला हॉकिन्स के 2015 के इसी नाम के उपन्यास पर आधारित थी। 

बेशक कहानी के नाम पर फिल्म पूरी तरह पुरानी फिल्म की ही कॉपी है लेकिन पुरानी फिल्म का वह जादू आपको भारतीय फिल्म में नहीं देखने को मिलता है इसका बड़ा कारण है शुरू के आधे घंटे तक आप फिल्म के सांथ बधें हुए रहते हैं और उम्मीद करते हैं की आगे की फिल्म भी आपको और ज्यादा थ्रिल देने वाली है लेकिन ऐसा नहीं होता। फिल्म आपको तीन समय (प्रेजेंट, पास्ट, फ्यूचर) के जाल में पूरी तरह से बाँध कर उलझा देती है और आपको यह महसूस होगा की अब आप फिल्म के सांथ जुड़ नहीं पा रहे हैं।

इस आर्टिकल को इंग्लिश पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

ऐसा होने के पीछे का बड़ा कारण कहा जा सकता है इस फिल्म को कुछ भारतीय स्वाद देने की कोशिश की गयी जिसके कारण फिल्म में थोड़ा बदलाव हुए हैं जोकि फिल्म को बीच में तोड़ कर रख देते हैं। 

यह सवाल उठना सही जरूर है की जिसने पुरानी फिल्म नहीं देखी है क्या उसके लिए भी द गर्ल ऑन दी ट्रैन फिल्म (the girl on the train) बेकार है तो इसका जवाब है नहीं क्यूंकि तब आपका दिमाग तुलना करने की बजाय आपको फिल्म में आपकी रूचि बनाने की कोशिश करता है लेकिन फिल्म को थोड़ा देखने के बाद आपको इस फिल्म से आपको धीरे धीरे भटकने, बीच में जबरदस्ती के मोड़ और अंत में एक साधारण क्लाइमेक्स देखने को मिलता है जोकि आपको निराश करेगा।


द गर्ल ऑन दी ट्रैन फिल्म की रेटिंग कितनी है? (the girl on the train film ki rating kitni hai)
इस फिल्म को IMDB पे 10 में से 4.2 की रेटिंग मिली है और हम इस फिल्म को 5 में से 2 स्टार देंगे।


कैसी है द गर्ल ऑन दी ट्रैन फिल्म और क्या हमें देखनी चाहिए? (the girl on the train film kaisi hai aur kya hamein dekhni chahiye)
द गर्ल ऑन दी ट्रैन फिल्म एक औसत फिल्म है जिसमे काफी ऐसे दृश्य भी है जोकि आप अपने उम्र के लोगो के सांथ ही देखना पसंद करेंगे लेकिन हमारी राय में कुछ किरदारों की अच्छी अदाकारी और औसत म्यूजिक को छोड़कर ऐसा कुछ खास नहीं है की आप अच्छे कंटेंट से पहले इसे देखें। 


परफॉरमेंस
परिणीति चोपड़ा – इस फिल्म की जान कलाकारों की अदाकारी है जिसमे सबसे पहला नाम परिणीति चोपड़ा का है जिन्होंने एक किरदार में स्त्री के कई भावों को अपने चेहरे और अदाकारी से सफल तरीके से परदे पर उतारा है। परिणीति का प्रदर्शन फिल्म में काफी सहज लगता है और आप उनके किरदार से आसानी से जुड़ जाते हैं।

कीर्ति कुल्हारी के लिए यह एक बहुत बड़ा मौका था जहाँ उन्होंने अपने आपको बेहतरीन अदाकारी के सांथ साबित किया है की वह हर किरदार को निभाने के लिए तैयार हैं। अविनाश तिवारी ने भी अपने किरदार को काफी साजिन्दगी के सांथ निभाया है जिससे आप उनके किरदार को काफी पसंद करेंगे। अदिति राव हैदरी अपने छोटे से रोल थोड़ा नाखुश जरूर होंगी जिसमे उन्हें अपने आपको थोड़ा समय और मिलना चाहिए था।


द गर्ल ऑन दी ट्रैन फिल्म के किरदार (the girl on the train film ki starcast)
अदिति राव हैदरी: नुसरत जॉन, परिणीति चोपड़ा: मीरा कपूर, कीर्ति कुल्हारी: पुलिस इंस्पेक्टर, हितेन पटेल: डेविड डॉक्टर, रिची लॉरी: वालटर, निशा आलिया: पिया, अविनाश तिवारी, नताशा बेनटोन: अंजलि, टोटा रॉय चौधरी 


द गर्ल ऑन दी ट्रैन फिल्म में क्या अच्छा है? (the girl on the train film mein kya acha hai)
द गर्ल ऑन दी ट्रैन फिल्म का स्क्रीनप्ले काफी तेज़ है जिससे आपको बोर होने का मौका नहीं मिलता है। इसके सांथ ही फिल्म के मुख्य किरदारों को दर्शकों से जुड़ने के लिए किरदार को अच्छे से लिखा गया है जोकि दर्शकों को को पूरा समय देता है किरदार की कहानी को समझने के लिए।

द गर्ल ऑन दी ट्रैन फिल्म का म्यूजिक काफी अच्छा है जोकि सही समय और अच्छे लिरिक्स के सांथ दर्शकों को फिल्म से बांधने में मदद करती है।

फिल्म को शूट काफी अच्छे तरीके से किया गया है जिसमे आपको एक अच्छी फिल्म देखने का एहसास दिलाती है।


द गर्ल ऑन दी ट्रैन फिल्म में क्या बुरा है? (the girl on the train film mein kya bura hai)
द गर्ल ऑन दी ट्रैन फिल्म का डायरेक्शन भी उतना अच्छा नहीं हैं क्यूंकि फिल्म को ठीक नावेल और पुरानी फिल्म के अनुसार प्रेजेंट करने की कोशिश तो की गयी है लेकिन कहानी में थोड़ा सा फेबदल के कारण आपको फिल्म को देखते हुए कहानी में कमी का एहसास कराता है। 

द गर्ल ऑन दी ट्रैन फिल्म की सिनेमेटोग्राफी में उतना दम नहीं है की आपको कुछ बढ़िया तरीके से फिल्म को देखने का मौका मिले।

फिल्म की कहानी ज्यादा तेज़ होने के कारण आपको बहुत जगहों पर टूटी हुई लगती है।


द गर्ल ऑन दी ट्रैन फिल्म की कहानी का प्लाट (the girl on the train film ki kahani ka plot)
द गर्ल ऑन दी ट्रैन फिल्म की कहानी शुरू होती है एक नशा करने वाली लड़की से जिसका नाम मीरा है और वह पेशे से वकील है लेकिन एक हादसे में वह अपने बच्चे को खो चुकी है। इसका बात का गम मीरा को नशे की और बढ़ाता है और इस वजह से वह अपने करियर में भी गिरती चली जाती है। मीरा के सांथ और बुरा तब होता है जब एक एक्सीडेंट के दौरान वह अपनी यादों को कुछ समय बाद भूलने लगती है जिसका असर उसके जीवन में भी पड़ने लग जाता है।

मीरा के जीवन में अब ख़ुशी का पल तभी आता है जब वह एक शादीशुदा जोड़े को रेडब्रिज से ग्रीनविच जाने वाली ट्रेन में देखती है। यह जोड़ा काफी खुश है जिसे देखकर मीरा अपने आपको उस जोड़े में महसूस करके थोड़ा खुश रहती है। कहानी का मोड़ अब आता है जिसमे उस जोड़े में से महिला की हत्या हो जाती है और इसका शक मीरा के ऊपर होता है क्यूंकि उसके सबूत पुलिस को वहां मिलते हैं लेकिन मीरा अपनी बीमारी के कारण पिछले कुछ दिन को भूल चुकी है इसलिए अब वह अपने ऊपर से इस इल्जाम को कैसे हटाती है यही द गर्ल ऑन दी ट्रैन फिल्म की कहानी (the girl on the train film ki kahani) है।


हम इसे एक ज्ञान वर्धक इनफार्मेशन की तरह दिखा और बता रहे हैं। अगर इस आर्टिकल से रिलेटेड कोई भी सुझाव या शिकायत है तो हमें digitalworldreview@gmail.com पर मेल करें!


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *