‘पति पत्नी और वो’ वेब सीरीज का रिव्यू, कहानी में क्या अच्छा है और क्या बुरा, सीरीज की कहानी।

pati-patni-web-series-ka-review-kya-acha-or-bura-hindi-kahani
Spread the love

‘पति पत्नी और वो’ वेब सीरीज का हिंदी रिव्यू
दोस्तों अगर अगर हमें फ्री में ही साफ़ सुथरी और एंटरटेनिंग सीरीज मिल रही है जिसमे आपको प्यार और तकरार का अनूठा गठबंधन देखने को मिले तो जरूर आपको उसे देखना चाहिए। पति और पत्नी की नोक झोक और प्यार को दर्शाती सीरीज है ‘पति पत्नी और वो’ बस यहाँ अंतर है की यहाँ पत्नियां दो हैं और जिसमे से एक पत्नी मर चुकी है और दूसरी पत्नी अपने पति के प्यार की तलाश में रहती है मगर फिर भी वह अपने पति से नाराज़ नहीं है। दो पत्नियों के बीच फॅंसे पति, जोकि दोनों में से किसी को भी नाराज़ नहीं करना चाहता।

इस सीरीज को निशीथ नीरव नीलकंठ ने डायरेक्ट किया है और इसकी कहानी भी अपने आप में अनोखी है क्यूंकि ‘पति पत्नी और वो’ के नाम कई फिल्में बन चुकी हैं लेकिंन उनमे शादी के बाद का अफेयर ही दिखाया गया था। मगर इस सीरीज की कहानी का नयापन इसे बिलकुल अलग बना देता है क्यूंकि यह अपने आप में एक नया कांसेप्ट है जोकि आपको जरूर आनंद देगा। यह सीरीज हलाकि एक हॉरर बेस्ड है लेकिंन आपको वह भी आपको बिलकुल सटीक तरीके से दिखाई गयी है और वह भी मजाकिया अंदाज में।  

इस आर्टिकल को आप इंग्लिश में भी पढ़ सकते हैं।

सीरीज को आप mx player पे फ्री में देख सकते हैं, इसमें 10 एपिसोड है तथा हर एपिसोड 20-30 मिनट का है लेकिंन यकीन मानिये जब आप इस सीरीज को देखेंगे को आपको मजा जरूर आएगा।  

hindidwr आपको यह सुझाव देना चाहेगा की आप इस सीरीज को जरुर देखें क्यूंकि यह सीरीज प्यार और उसके लिए किये जाने वाले त्याग को दर्शाती है।

सीरीज की रेटिंग
सीरीज को IMBD पे 7.7 रेट मिला है 10 में से और वहीँ हम इस सीरीज को 5 में से 3.5 स्टार देंगे।

‘पति पत्नी और वो’ वेब सीरीज की हिंदी में कहानी
इस सीरीज की कहानी उत्तर प्रदेश के बनारस में रहने वाले मोहन पर आधारित है जोकि एक दुकान का मालिक है और अपने बिज़नेस के प्रति ईमानदार है। मोहन की पत्नी का देहांत हो चूका है जिसे वह बहुत प्यार करता था और उसकी पत्नी सुरभि भी उसे बहुत प्यार करती थी शायद इसलिए ही वह मरने के बाद भी भूत बनकर अपने पति के पास रहती है और वह उसकी दूसरी शादी करवाना चाहती है अपनी तेहरवी के दिन ताकि वह उस दिन मुक्त जाये और धरती से चली जाये।

मोहन अब कई लड़कियों को देखता है मगर कोई भी इतनी जल्दी शादी करने को तैयार नहीं होता मगर उसे एक लड़की मिल ही जाती है जोकि इतनी जल्दी शादी के लिए तैयार हो जाती हैं। मगर उनकी शर्त है की वह शादी से पहले लड़की का चेहरा नहीं देख सकते और मोहन इसके लिए तैयार भी हो जाता है। लेकिन शादी की सुहागरात के दिन जब मोहन अपनी दुल्हन का चेहरा देखता है तो वह बस देखता ही रह जाता है क्यूंकि उसकी दुल्हन जिसका नाम रिमझिम (रिया सेन) है देखने में बहुत ही सुन्दर है। यह देख सुरभि को अब रिमझिम से जलन हो जाती है और वह जाने से इंकार कर देती है।  

अब सुरभि नहीं चाहती की मोहन रिमझिम के करीब जाये और कोई भी संबंध बनाये और मोहन भी सुरभि की ख़ुशी के लिए रिमझिम को निराश कर देता है जिससे रिमझिम को भी बहुत दुःख होता है। रिमझिम कुछ समय तक बर्दाश्त करती है लेकिन एक दिन वह नाराज होकर अपने मायके चली जाती है। जिसके कारण मोहन भी उदास हो जाता है अब मोहन को उदास देख सुरभि को अपनी गलती का एहसास हो जाता है और वह रिमझिम को वापिस लाने के लिए मोहन को बोलती है और मोहन रिमझिम को घर ले आता है। अब रिमझिम को भी पता लग जाता है की सुरभि के कारण यह सब कुछ हो रहा है जिसके लिए वह एक पूजा रखवाती है सुरभि की शांति के लिए। हालांकि अंत में दिखाया गया है सुरभि को मुक्ति नहीं मिली है बल्कि उसे कैद किया गया है इसका मतलब इस सीरीज का दूसरा भाग भी बन सकता है।

सीरीज में क्या सही है
दोस्तों हमें इस सीरीज में प्यार, कॉमेडी हॉरर, पति और पत्नी की नोकझोंक देखने को मिलेगी जोकि एक नया कांसेप्ट है। कहानी काफी फोकस्ड रहती है अपनी स्टोरीलाइन पे जिससे आप आसानी से कहानी से जुड़ पाते हैं। सीरीज के कलाकार अपनी अच्छी एक्टिंग से इस सीरीज को दमदार बना देते है।  

सीरीज में क्या गलत है 
कहानी के कुछ हिस्सों में आपको बगैर मतलब के जोक्स मिलेंगे हलाकि उनसे हंसी नहीं आती है। कहानी के एपिसोड्स की बात की जाये तो वह भी कुछ ज्यादा हैं क्यूंकि अगर इस सीरीज को कुछ फालतू के सीन्स और डायलॉग हटा दे तो यह 8 एपिसोड में ख़तम हो सकती थी जोकि और ज्यादा सटीक लगता।

कुछ जगहों पर आप खुद ही अंदाजा लगा लेते हैं की आगे क्या होने वाला है क्यूंकि कहानी को काफी साधारण रखा गया है और शुरू में ही दिखा दिया है की भूत कौन है, कहानी में मोहन क्यों जल्दी शादी करना चाहता है थोड़ा रोमांच को बढ़ाया जाता तो और ज्यादा मजा आता।

डायरेक्शन, म्यूजिक और स्क्रीनप्ले
सीरीज का डायरेक्शन आपको नार्मल लगेगा क्यूंकि डायरेक्टर ने ज्यादा कोशिश करके इस सीरीज के देसी लुक को बिगड़ने का रिस्क नहीं लिया है। वहीँ स्क्रीनप्ले थोड़ा और अच्छा हो सकता था लेकिन म्यूजिक और और एक्टिंग उस कमी को पूरा कर देते हैं।

सीरीज की स्टार कास्ट 
अनंत विधत शर्मा: मोहन, रिया सेन: रिमझिम, विन्नी अरोरा: सुरभि, सक्षम शुक्ल: 3G, जसपाल शर्मा: पंडित जी, सिद्दार्थ चतुर्वेदी: कुक्कू

अगर इस आर्टिकल से रिलेटेड कोई भी सुझाव और शिकायत है तो हमें digitalworldreview@gmail.com पर मेल करें


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *