मनन शाह की बायोग्राफी(जीवनी), पढाई, कुल सम्पति और कमाई के जरिये। एक स्कूल ड्रॉपआउट बच्चा कैसे भारत का प्रसिद्ध और सबसे युवा नैतिक हैकर और साइबर सुरक्षा विशेषज्ञ बनकर आज करोड़ो रूपये कमा रहा है।

manan-shah-ki-jivani-kahani-padhai-kamai-company
Spread the love

मनन शाह की कहानी
आज हम बात करने वाले हैं ऐसे इंसान के बारे में जिन्होंने बहुत ही कम उम्र में ही अपनी मेहनत और टैलेंट के दम पर ऐसे मुकाम को छुआ है जिसे पाना शायद हर किसी के बस की बात नहीं है। एक समय पर अपने इसी जूनून की वजह से स्कूल को भी छोड़ देने वाले इस बच्चे को लोगो ने यह भी कहना चालू कर दिया था की यह लड़का स्कूल की पढाई तो कर नहीं पाया आगे अपनी जिंदगी में क्या करेगा।

लेकिन वह कामयाबी ही क्या जिसमे जूनून और कुछ खोकर अपने सपने को पूरा करने का संघर्ष न हो। इस बच्चे ने अपनी मेहनत और लगन के जरिये न केवल भारत बल्कि पूरी दुनिया में ही अपना नाम कमाया है। हम बात कर रहे हैं मनन शाह की जिन्होंने नैतिक हैकिंग की दुनिया में अपनी अलग पहचान बनायीं है। 

आज के डिजिटल युग में हर व्यक्ति अपने कामों को आसान करने के लिए डिजिटल प्लेटफार्म के जरिये ही अपनी पेमेंट और जरूरी काम करते हैं लेकिन इन सभी में उन्हें यह डर भी हमेशा रहता है की उनकी इस प्राइवेसी में कोई सेंध ना मार दे। इसी तरह के डिजिटल धोखे और चोरी से बचने के लिए नैतिक हैकर की आवश्यकता भी पड़ती है।

इस आर्टिकल को इंग्लिश पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।

मनन शाह की जीवनी
अगर भारत में नैतिक हैकर्स की बात की जाये तो बहुत से बड़े नाम जैसे विवेक रामचंद्रन, अंकित फ़ादिया, सनी वाघेला और मनन शाह जैसे कई साइबर एक्सपर्ट का नाम आपके दिमाग में आएगा या फिर आपको सर्च करने पर मिल जायेगा। लेकिन एक नाम इनमे से काफी खास है और वह है मनन शाह का क्यूंकि इन्होने काफी छोटी उम्र में ही नैतिक हैकिंग की दुनिया में अपने आप को साबित करके दिखाया है।

मनन शाह ने माइक्रोसॉफ्ट, गूगल, एप्पल और फेसबुक जैसी कई बड़ी कंपनियों की वेबसाइट में कमियों को ढूंढकर उन्हें कई बार बड़े नुक्सान से बचाया है। इसके सांथ ही मनन शाह ने कई बार हमारे देश की पुलिस की मदद की है ताकि साइबर मुजरिमो को पकड़ा जा सके।


मनन शाह का जन्म और पढाई
मनन शाह का जन्म गुजरात के भरुच गांव में 19 अगस्त 1993 को हुआ था। उनके पिता का नाम भरत और माँ का नाम प्रतीक्षा शाह है। मनन शाह का स्कूल उनके घर से 50km दूर था और शुरू से ही मनन का मन पढाई में बिलकुल नहीं लगता था और इसलिए वह ज्यादातर क्लास में पीछे ही बैठना पसंद करते थे।

मनन पढाई में गिरते स्तर को देखकर उनके माता पिता परेशान हो रहे थे इसलिए उन्होंने मनन को कंप्यूटर गिफ्ट कर दिया ताकि मनन का स्कूल का रिकॉर्ड को कंप्यूटर की मदद से अच्छा किया जा सके तब मनन 9 क्लास में थे।

मनन को शुरू से ही कंप्यूटर में दिलचस्पी थी और कंप्यूटर घर पर आने के बाद वह किताबों की जगह कंप्यूटर पर ही अपना समय बिताना पसंद करने लगे। मनन अब कंप्यूटर के हार्डवेयर और बेसिक प्रोग्रामिंग में अपने आप को माहिर कर चुके थे इसलिए वह अब दूसरों के कंप्यूटर में आने वाली परेशानियों को ठीक करने में उनकी मदद भी किया करते थे।

मनन को आगे की पढाई कराने के लिए उनके माता पिता ने उन्हें बड़ोदा में भेज दिया लेकिन मनन का मन यहाँ भी सिर्फ कंप्यूटर पर लगता था इसलिए जब मनन 10 क्लास में पहुंचे तो उन्होंने अपने इसी जूनून को पूरा करने के लिए अपनी पढाई को छोड़ दिया लेकिन यह बात उन्होंने अभी अपने माता पिता को नहीं बताई थी।


मनन शाह की बायोग्राफी
मनन के इसी मेहनत का फल उन्हें 16 साल की उम्र में मिला जब उन्होंने black XP नाम से एक सॉफ्टवेयर बनाया और उसे फ्री में लोगो के लिए इंटरनेट पर डाल दिया। कंप्यूटर लवर्स ने भी इस सॉफ्टवेयर को काफी पसंद किया और इस सॉफ्टवेयर को लगभग 2 करोड़ लोगो ने डाउनलोड किया। इस उपलब्धि के कारण मनन शाह के नाम को गिनिस बुक ऑफ़ रिकॉर्ड में जगह मिली। 

अभी भी मनन को यह साफ़ नहीं थी की उन्हें आगे जाकर किस राह को पकड़ना है। लेकिन 2009 में एक यूनिवर्सिटी में अंकित फ़ादिया की नैतिक हैकिंग के ऊपर हो रहे सेमिनार में मनन शाह ने भाग लिया और यहीं से मनन को एक राह मिल गयी की उन्हें भी नैतिक हैकिंग की दुनिया में ही अपनी पहचान बनानी है।

मनन अब दिन में कई घंटे बस हैकिंग को सिखने और उसके जरिये कई बड़ी कम्पनीज की खामियां ढूढ़ने में लग गए जिसके बदले में उन्हें नाम और पैसा दोनों मिलने लगे। इसके सांथ मनन नैतिक हैकिंग के ऊपर ब्लोग्स और फ़ोरम्स भी लिखने लगे जिससे उन्हें भरत में भी ज्यादा पहचान मिलने लगी।

 यही वह वक़्त था जब मनन का नाम बड़े नैतिक हैकर्स की दुनिया में लिया जाने लगा। मनन की इसी लोकप्रियता के कारण मनन को साइबर क्राइम को रोकने और साइबर क्राइम करने वालों को पकड़ने के लिए बुलाया जाने लगा और मनन भी लोगो की मदद करने के लिए हमेशा तैयार रहते हैं।


मनन शाह की नैतिक हैकिंग की कंपनी
मनन शाह अब यह ठान चुके थे की उन्हें अपना करियर इसी क्षेत्र में बनाना है इसलिए अब उन्होंने नैतिक हैकिंग पर आधारित कंपनी खोली जिसका नाम है – अवालेन्स ग्लोबल सोलूशन्स। मनन शाह की कंपनी को बड़ी उपलब्धि तब मिली जब उन्हें भारतीय फिल्मों की पायरेसी रोकने का काम मिला। इसके सांथ ही मनन शाह ने भारतीय कम्पनीज को रैनसमवेयर जैसे बड़े वायरस से बचाने के लिए सॉफ्टवेयर बनाकर काफी नाम कमाया।

मनन शाह अब अपना यह ज्ञान लोगो तक और ज्यादा पहुंचना चाहते हैं इसलिए उन्होंने नैतिक हैकिंग के ऊपर कुछ किताबे भी लिखी हैं। इसके सांथ ही मनन शाह को वीडियो गेम्स का भी शोक है इसलिए उन्होंने अपने कंप्यूटर को खुद ही मॉडिफाइड करके ऐसा कंप्यूटर बनाया जिससे वह बड़ी से बड़ी गेम को आसानी से अपने कंप्यूटर में खेल सकें।

मनन शाह की सम्पति की बात की जाये तो 2020 के आकड़ों के मुताबिक $2,000,000 है। मनन शाह को गाड़ियों का भी काफी शोक है इसलिए उनके पास ऑडी, हुंडई, मक्लारेन, फेरारी जैसी गाड़ियां मौजूद हैं। मनन शाह के पास एक आलिशान घर भी है जिससे पता लगता है की मनन को शान शौकत की जिंदगी भी पसंद है।

अगर आप भी अपने पैशन को पाने के लिए इसी तरह से कड़ी मेहनत करेंगे तो कामयाबी आपको जरूर मिलेगी लेकिन इसके लिए यह जरूरी नहीं की आप अपनी शिक्षा को अधूरा छोड़ दो। इसके बजाय आप अपने पैशन को अपनी पढाई के सांथ पूरा करें तो आपका नाम और भी ज्यादा रोशन होगा क्यूंकि जब कोई यह बोलकर आपकी तारीफ करे की आपने अपने लक्ष्य को अपनी पढाई के सांथ प्राप्त किया है तो आपको अपने ऊपर और भी अधिक फक्र होगा। 

हमारी यह पोस्ट मनन शाह के दिए गए इंटरव्यूज और 2020 में इंटरनेट पर मौजूद इनफार्मेशन के अकॉर्डिंग है। हम इसे एक ज्ञान वर्धक इनफार्मेशन की तरह दिखा और बता रहे हैं। अगर इस आर्टिकल से रिलेटेड कोई भी सुझाव या शिकायत है तो हमें digitalworldreview@gmail.com पर मेल करें!


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *