कुछ नया नहीं है लेकिन फिर भी आप देख सकते हो। गर्ल्स हॉस्टल 2 सीरीज का हिंदी में रिव्यू, किरदार, सीरीज की कहानी का प्लाट। सीरीज क्या अच्छा है और क्या बुरा।

girls-hostel-2-ka-hindi-review-kahani-kirdar-cast
Spread the love


गर्ल्स हॉस्टल 2 का हिंदी में रिव्यू
अगर आपने कॉलेज लाइफ को जिया है तो जरूर यह सीरीज आपके दिल के ज्यादा करीब आ जाएगी क्यूंकि TVF की ज्यादातर कहानियां युवाओं को ध्यान में रखकर ही लिखी जाती है खासतौर पर कॉलेज और होस्टेल में रहने वाले बच्चों के ऊपर। इस बार के सीजन को थोड़ा पोलिटिकल तड़का भी देने की कोशिश की गयी है जिससे आम लोग भी इससे जल्दी जुड़ सकें क्यूंकि पॉलिटिक्स ऐसी चीज़ है जोकि आपको हर जगह देखने को मिल जाती है।

कहानी को पहले सीजन के अनुसार ही लिखा और बढ़ाया गया है और हलके फुल्के सामाजिक मुद्दे इसमें दिखाए गए हैं। देखना रोचक होगा की लोग इसे आगे जाकर कैसा रिस्पांस देते हैं क्यूंकि सीरीज में कुछ नयापन नहीं है। ज्यादा ट्विस्ट और टर्न भी कहानी में नहीं रखे गए हैं जोकि इसे थोड़ा रोचक बनाते। हलाकि इसे TVF बैनर की खासियत भी कहा जा सकता है की वह सिंपल कहानी को अपने दमदार स्क्रीनप्ले और अदाकारों की अच्छी अदाकारी से ऊपर उठा लेते हैं लेकिन यह सीरीज इसे दोहराने में नाकामयाब होती नज़र आती है।

TVF की दुनिया का माहौल आपको ज्यादातर सीरीज में एक जैसा ही लगता है इसलिए यह हो सकता है की आप सभी किरदारों को नए अंदाज़ में इतनी जल्दी न अपना पाएं। यह कहना गलत नहीं होगा की पिचेर्स, कोटा फैक्ट्री, यह मेरी फॅमिली वाला जादू इस सीरीज में नहीं कहीं भी नहीं है।

इस आर्टिकल को इंग्लिश पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।


गर्ल्स हॉस्टल 2 सीरीज की रेटिंग कितनी है?
इस सीरीज को IMDB पे 10 में से 8.2 की रेटिंग मिली है और हम इस सीरीज को 5 में से 2.5 स्टार देंगे।


कैसी है गर्ल्स हॉस्टल 2 सीरीज और क्या हमें गर्ल्स हॉस्टल 2 सीरीज देखनी चाहिए?
इस सीरीज में ऐसा कुछ खास भी नहीं है की आप इसके लिए अपने महत्वपूर्ण समय का प्रयोग करें लेकिन अगर आप TVFके दीवाने हैं और कुछ खास नहीं है आपक पास करने के लिए तो ही इसे देखें। यह सीरीज पारिवारिक नहीं इस बात ध्यान भी आपको रखना होगा।


परफॉरमेंस
सृष्टि श्रीवास्तव
: सृष्टि श्रीवास्तव जिहोने जो नाम के किरदार को निभाया वह अपने इस रोल में काफी दमदार लगी हैं। उन्हें एक बिगड़ैल और तेज़ तरार लड़की का रोल दिया गया था जिसे उन्होंने बहुत ही अच्छे से निभाया है और पुरे सीजन को उन्होंने अपने दम से उठाने की कोशिश करी है।

बाकि किरदार अपने रोल में सिर्फ औसत लगती हैं जिनकी छाप आपको ज्यादा प्रभावी नहीं लगेगी।


गर्ल्स हॉस्टल 2 सीरीज में क्या बुरा है
सीरीज में कहीं जगहों पर कॉमेडी डालने की कोशिश की गयी है लेकिन वह बहुत ही बेकार तरीके से निभाई गयी है जोकि देखने में अच्छा नहीं लगता।

एक बात जोकि सीरीज के बनाने वालों को जरूर सोचनी चाहिए थी की यह कॉलेज अगर मेडिकल का न होकर नार्मल कॉलेज का होता तो ज्यादा असली लगता क्यूंकि आपको इन्हे देखकर कहीं से भी नहीं लगता की यह सभी मेडिकल के बच्चें हैं।

गर्ल्स हॉस्टल 2 सीरीज की कहानी काफी कमजोर लगती है जिसमे ज्यादा कुछ नया नहीं है और आप यह सब मुद्दे कई बार अच्छे तरीके से दुसरे वेब सीरीज में देख चुके होंगे।


गर्ल्स हॉस्टल 2 सीरीज में क्या अच्छा है
गर्ल्स हॉस्टल 2 सीरीज का स्क्रीनप्ले आपको हलके फुल्के मुद्दों के सांथ बाधें रखती है जोकि सही गति से सीरीज को आगे बढाती है।

गर्ल्स हॉस्टल 2 सीरीज का डायरेक्शन ठीक है जोकि आपको कॉलेज के माहौल में जल्दी से उतार देता है।


गर्ल्स हॉस्टल 2 सीरीज की टीम 
डायरेक्टर: चैतन्य कुम्भाकोनम 

प्रोडूसर: अरुणाभ कुमार

लेखक: श्रेयसी शर्मा, स्वस्ति जैन, अनंत सिंह, प्रशांत कुमार


गर्ल्स हॉस्टल 2 सीरीज के किरदार
सृष्टि श्रीवास्तव: जो, अहसास चन्ना: ऋचा, पारुल गुलाटी: ज़ाहिरा अली, सिमरन नाटेकर: मिली, श्रेया मेहता: राम्या मंत्री, गगन अरोरा: आरव, तृप्ति खामकर: वार्डन, जयती भटिआ: सरला देसाई, खुशबु बैड: पलक, दूरिन दास: ट्विटर, शिल्पा सिन्हा: सुकन्या, श्रेयसी शर्मा: परीक्षा, मीनल तिडके: मोना, बरखा फ़टनानी: जीनल, लीशा बजाज: शीला केजवानी


गर्ल्स हॉस्टल 2 सीरीज की कहानी क्या है?
सीरीज की कहानी जो और ज़ाहिरा अली के इर्द गिर्द घूम रही है जोकि आपस में लड़ती रहती हैं कभी लड़कों के कॉलेज में घुसने को लेकर तो कभी पानी की कमी को लेकर। दोनों एक दुसरे के इस तरह विरोधी हैं की किसी अच्छे काम के लिए भी दोनों एक दूसरे के सांथ नहीं आते हैं जिसका फायदा यहाँ की डीन उठाना चाहती है और अपना दबदबा बढ़ाने के लिए वह ज़ाहिरा अली से हाथ मिलाने का मौका देती है।

इस बीच कॉलेज में इलेक्शन भी चल रहे हैं जिसमे जो और ज़ाहिरा अली आपस में लड़ रहे हैं लेकिन ज़ाहिरा अली अंत में जीत जाती है अब उसे समझ में आ जाता है की डीन उसकी पोस्ट का फायदा उठाना चाहती है इसलिए वह डीन को मना कर देती है। अंत में दिखने की कोशिश की गयी है की जो और ज़ाहिरा अली दोनों आपस में दोस्ती करने की कोशिश कर रहे हैं।


हम इसे एक ज्ञान वर्धक इनफार्मेशन की तरह दिखा और बता रहे हैं। अगर इस आर्टिकल से रिलेटेड कोई भी सुझाव या शिकायत है तो हमें digitalworldreview@gmail.com पर मेल करें!


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *