क्रिस हेम्सवर्थ की एक्सट्रैक्शन सीरीज की समीक्षा

Extraction-series-ka-review
Spread the love

यह एक हॉलीवुड वेब सीरीज है, जिसे IMDB में 6.8/10 रेटिंग मिले है। राटन तोमाटोएस ने इसे 68% तक फ्रेश की रेटिंग दी है तथा गूगल में 90% लोगो ने इसे पसंद किया है।

इस सीरीज में आपको मुख्य कलाकार के रूप में: ऑस्ट्रेलियाई एक्टर क्रिस हेम्सवर्थ, रुद्राक्ष जैस्वाल, सारा रुमाओ, प्रियांशु, रणदीप हुड्डा और पंकज त्रिपाठी।

डायरेक्शन और निर्माता
क्रिस हेम्सवर्थ इस फिल्म के निर्माता है और वहीँ फिल्म का डायरेक्शन किया है सैम हैराग्वे ने। आपको बता दे सैम हैग्राव एक स्टंटमैन और निर्देशक भी हैं जोकि मार्वल की फिल्मो में एक्शन डायरेक्शन करते हैं।

आज हम आपके लिए लेकर आए है एक ऐसा रिव्यु जिसमें आपको मारधाड़, जबरदस्त एक्शन, इमोशन वाला स्पेशल कॉम्बो देखने को मिलेगा। जी हाँ हम बात कर रहे हैं एक्सट्रैक्शन की जोकि नेटफ्लिक्स पे रिलीज किया गया है इंग्लिश और हिंदी में। अगर आप इस सीरीज को हिंदी में देखकर आनंद लेना चाहते हो तो आप इसको हिन्दी में भी देख सकते हो वैसे हमारी राय इंग्लिश ही होगी। 

कहानी का प्लाट
कहानी ड्रग्स का धंधा करने वाले कुछ खतरनाक लोगों के इर्द गिर्द लिखी गई है जो किसी भी कीमत पर एक दूसरे से आगे निकलना चाहते हैं और अक्सर में अपनी फैमिली को भी दांव पर लगा देते हैं। कुछ ऐसा ही हाल मुंबई के एक मशहूर ड्रग डीलर का है जिनकी अच्छी खासी जिंदगी पूरी तरह उलट पुलट हो जाती है जब अचानक एक रात इनके बेटे को किडनैप कर लिया जाता है। इस किडनैपिंग का कनेक्शन जुड़ा हुआ है बांग्लादेश में एक दूसरे ड्रग डीलर आमिर के साथ ड्रग्स की दुनिया का बादशाह बनना चाहता है इसलिए वह अपने कम्पटीशन को एक एक करके ख़तम कर रहा है।

अब एंट्री होती है टाइलर की जोकि सीक्रेट एजेंट की जिन्दगी से काफी दूर भागते हैं और अक्सर ऐसे मिशन की तलाश करते रहते हैं जिसमें जान का खतरा सबसे ज्यादा होता है और मौत की खबर पक्की होती है। टाइलर को इस बार एक ऐसा काम सौपा गया है जिसमे उन्हें ओवी को बांग्लादेश के ड्रग माफिया से छुड़ा कर वापस मुंबई लेकर आना है और इसके बदले में टाइलर को खूब सारे पैसे मिलेंगे लेकिन यह जितना आसान लगता है हकीकत में उतना ही ज्यादा कठिन है। दरअसल आमिर का खौफ पूरे बांग्लादेश में फैला हुआ है और बड़े बड़े गैंगस्टर्स से लेकर पूरा पुलिस डिपार्टमेंट भी उसके इशारे पर ही चलता है। 

बात की जाये दुसरे अहम् किरदार यानि रणदीप हूडा की वह एक पर्सनल सेक्युरिटी हेड हैं जोकि पहले किसी ज़माने में स्पेशल फोर्स लिए काम किया करते थे लेकिन आजकल बॉडीगार्ड बनने के लिए मजबूर हैं और सबसे पहले उनको मुम्बई वापस लाना चाहते हैं। अब इन दोनों में से ओवी तक सबसे पहले कौन पहुंचेगा या कहीं इन दोनों की आपस में लड़ाई का फायदा सीधे आमिर को मिलेगा जिसकी वजह से उनको हमेशा बांग्लादेश में रहना पड़ेगा। 

इस आर्टिकल को इंग्लिश भाषा में पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

टाइलर के सांथ क्या हुआ जिसकी वजह से वो हर दिन मौत की तलाश करता रहता है और जिंदगी को खत्म करने की जिद पर अड़ा हुआ है। और इसी तरह रणदीप हुडा और ओवी के पास्ट को भी दिखाया गया है जिससे की फिल्म आपको सभी मुख्या किरदारों के अतीत से जोड़ती है और बोर नहीं होने देती। कहानी का फोकस एक अकेले बंदे की लड़ाई पर है जोकि पूरे ड्रग माफिया के खिलाफ मारपीट के साथ खून खराबे का ऐसा खेल खेलता है जिसको देखने के बाद आपकी आंखे फिल्म के अगले आने वाले सीन के लिए तैयार रहती है। रणदीप हुड्डा के बीच में जो भयंकर जंग देखने को मिलती है उसके बाद आपकी हार्टबीट घोड़े की तरह भागने लगती है और उसके पीछे बजने वाले सुपरहिट इंडियन सोने पे सुहागा का काम करते हैं और उस सीन और भी स्पेशल बना देते हैं। 

कहानी में जो फादर और सन के बीच वाले रिश्ते को फोकस में डाला गया है वह बाकी ऐक्शन मूवी से एकदम अलग लाकर खड़ा कर देता है। एक तरफ मारपीट चल रही है लोग अपनी जान से हाथ धो रहे हैं तो दूसरी तरफ इमोशंस का प्लाट बुना जाता है एवं आपको याद दिला सकता है जिसमें सुपरहीरो वाली लड़ाई में भी इमोशन सबसे बड़ा एक्स फैक्टर साबित होते हैं। सबसे अच्छी बात है कि फिल्म सिर्फ इस बात पर फोकस नहीं डाला गया है बल्कि हर छोटे बड़े को बराबर स्पीड देने की कोशिश की गई है और अपने टैलेंट को साबित करने के लिए हंड्रेड परसेंट चांस दिया गया है जोकि बॉलीवुड की फिल्मों में बिल्कुल भी देखने को नहीं मिलता है। 

जिस तरह से बांग्लादेश की लोकेशंस का बेहतरीन इस्तेमाल किया गया है उसकी वजह से एक्शन एक हॉलीवुड फिल्म के बाद भी आपको इंडियन वाली फीलिंग महसूस कराती है। हमेशा की तरह के सबसे बड़े स्टार क्रिस हेम्सवर्थ जो इस बात की तरफ भगवान नहीं बल्कि एक मामूली इंसान हैं और इनको चोट भी लगती है दिमाग से काफी स्ट्रगल भी करते हैं लेकिन गिर कर वापस टैलेंट इनको आपका फेवरिट बना देता है। पंकज त्रिपाठी का रोल काफी छोटा लेकिन इम्पॉर्टेंट है और रणदीप हुड्डा हमेशा की तरह अपनी एक्टिंग स्किल्स को लोहे की तरह मजबूती से पेश करते हैं। और बात की जाये सीरीज के विल्लिअन की एक्टिंग की तो प्रियांशु जिन्होंने कैरेक्टर प्ले किया है वो उनके सबसे बड़े सरप्राइज में अपनी दमदार एक्टिंग स्किल से सबका दिल जीत लेते हैं।

बात की जाये हमारी रेटिंग की तो इसमें एक्शन 4 स्टार और एक्टिंग के लिए 3 स्टार, डायरेक्शन के लिए 3 स्टार देंगे और ओवरआल 3.2 स्टार

अगर आपके पास कुछ सुझाव या शिकायत है तो हमें digitalworldreview@gmail पर मेल करें 


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *