सीरीज के नाम पर सिर्फ बोल्ड दृश्य और कुछ नहीं, डेंजरस सीरीज का रिव्यू, सीरीज में क्या अच्छा है और क्या बुरा, किरदार, सीरीज की कहानी का प्लाट

dangerous-series-ka-review-hindi-mein-kirdar-kahani
Spread the love

कैसी है डेंजरस सीरीज
बिपाशा बासु का लम्बे समय से इंतज़ार कर रहे दर्शको के लिए ख़ुशी की खबर बनकर आई है यह सीरीज लेकिन सच कहें तो जब फैंस ने यह सीरीज देखी होगी 

तो उन्होंने सिर्फ अपने आप को इसके लिए कोसा होगा की उन्होंने यह क्या देख लिया। स्टोरी के नाम पर वही पुरानी महेश भट्ट की फिल्मो वाली कहानी जहाँ एक अमीर आदमी की पत्नी गायब हो जाती है और पूरी कहानी उसकी जांच में पूरी हो जाती है। हद तो तब हो गयी जब सीरीज का अंत भी जब इन्ही फिल्मो की तरह मिलता जुलता है जिससे दर्शक जरूर नाराज़ होंगे।

सीरीज को डायरेक्ट किया है भूषण पटेल और इसका स्क्रीनप्ले लिखा विक्रम भट्ट ने और महेश भट्ट अपने पुराने जॉनर से बाहर आने को राज़ी नहीं हैं वह अभी भी थ्रिल, सस्पेंस या हन्टेड जॉनर में ही स्टोरीज लिखना पसंद करते है। इस सीरीज में कुल 7 एपिसोड्स हैं और हर एपिसोड्स आपको 20-25 का देखने को मिलेगा इससे दर्शको को यह फायदा होगा की आप सीरीज को जल्द ही ख़त्म कर पाएंगे। सीरीज हालांकि सस्पेंस से भरी हुई जरूर है जिसका खुलासा सीरीज के आखिर में होता है लेकिन जैसे जैसे सीरीज आगे बढ़ती जाती है उस सस्पेंस का अंदाजा दर्शक लगा लेंगे।

आप इस आर्टिकल को इंग्लिश में भी पढ़ सकते हैं।

क्या डेंजरस सीरीज हमें देखनी चाहिए?
सीरीज में कुछ भी ऐसा नया नहीं है जिसे हमने या बहुत से दर्शको ने देखा न हो लेकिन जो लोग बिपाशा बासु के फैंस हैं वह इस सीरीज को देख सकते हैं वरना इस सीरीज में ऐसा कुछ भी नहीं है जिसके कारण आप अपना समय बर्बाद करें।

डेंजरस सीरीज की रेटिंग
इस सीरीज को IMDB पे 2.7 रेट मिला है 10 में से और वहीँ हम इस सीरीज को 5 में से 2 स्टार देंगे।

डेंजरस सीरीज में क्या अच्छा है?
सीरीज की अच्छी बात एहि है की सीरीज आपको ज्यादा बोर नहीं करेगी, हर एपिसोड्स की कहानी अपने सही पेस से आगे बढ़ती है जिससे दर्शक सीरीज को जल्दी ख़त्म कर लेंगे।

अदाकारी की बात की जाये तो सिर्फ बिपासा बासु का काम ही आपको इस सीरीज में अच्छा लगेगा।

डेंजरस सीरीज में क्या गलत है?
सीरीज का डायरेक्शन सच में बहुत ज्यादा गन्दा है, कहानी को पास्ट से जोड़कर अच्छे से नहीं दिखाया गया है सिर्फ हिंट दे गयी है की नेहा सिंह और आदित्य धनराज एक दुसरे को जानते थे एक दुसरे के सांथ पहले रिलेशन में थे। किरदार के बैकग्राउंड पर कोई ध्यान नहीं दिया गया है, आखिर में भी जब सभी किरदारों की सचाई सामने आती है की वह उसे धोखा दे रहा है और वह उसे तो इसे धोखेबाजी के पीछे कोई बड़ा कारण नहीं है।

सीरीज की कहानी में कुछ भी नया या सस्पेंस से भरा हुआ नहीं है की आप सोचने को मजबूर हो जाएँ की आगे क्या होगा जोकि काफी निराश करता है।

पूरी सीरीज को देखकर आपको लगेगा की आपने कोई छोटा मोटा थिएटर का देखा है, बिपासा को छोड़कर सभी कलाकारों का काम औसत का है।

डेंजरस सीरीज का डायरेक्शन, स्क्रीनप्ले और म्यूजिक
सीरीज का डायरेक्शन, स्क्रीनप्ले और म्यूजिक यह तीनो औसतन है। यह सब देखकर तो बिलकुल लगता ही नहीं की किसी बड़े डायरेक्टर यह सीरीज डायरेक्ट की है।

डेंजरस सीरीज की कहानी का प्लाट
सीरीज चालू होती है नेहा सिंह (बिपासा बासु) के सांथ जोकि एक पुलिस अफसर हैं उन्हें आदित्य धनराज (करण सिंह ग्रोवर) की पत्नी दिया धनराज (सोनाली राउत) की मिसिंग का केस मिला है। नेहा आदित्य को पहले से जानती है इसलिए वह शुरू से ही आदित्य को एक मुजरिम के तौर पर नहीं देखती बल्कि बाकि सभी शक करती है और सबसे पूछताछ करती है। लेकिन कुछ समय बाद पता लगता है विशाल (सुय्यश राइ) जोकि दिया का ड्राइवर था उसी ने ही दिया का किडनैप किया है लेकिन विशाल ने दिया पर बम लगाया है इसलिए पुलिस विशाल को कुछ नहीं करती और पहले सिर्फ दिया को बचाने का सोचती है।

लेकिन विशाल ने दिया को जहर भी दिया होता है इसलिए जब दिया नेहा को मिल जाती है तो भी वह उसे नहीं बचा पाती लेकिन नेहा विशाल अब पकड़ने के लिए जाती है तो उससे पहले ही गौरी (नताशा सूरी) जोकि आदित्य की कूक होती है विशाल को मार देती है जिससे पता लगता है की यह दोनों मिले हुए थे। कुछ सबूतों के आधार पर नेहा को गौरी की साजिश का पता चल जाता है लेकिन यहाँ सीरीज का आखरी सस्पेंस उजागर होता है की गौरी और आदित्य भी आपस में मिले हुए हैं। आदित्य अपने आप को बचाने के लिए अब गौरी को मार देता है और अपने आप बचा लेता है।

कुछ दिन बीत जाने के बाद नेहा दवारा की गयी कुछ और इन्क्वारी से नेहा को अब आदित्य की सारी साजिश का पता चल जाता है वह आदित्य को पकड़ने के लिए जाती है लेकिन आदित्य भागने की कोशिश करता है इसलिए नेहा आदित्य को गोली मार देती है जिसमे आदित्या मर जाता है। आखिर में नेहा को उसकी यादों के सांथ दिखाया जाता है जहाँ वह आदित्य को फिर से याद कर रही होती है।

डेंजरस सीरीज के किरदार
बिपाशा बासु: नेहा सिंह, करण सिंह: आदित्य धनराज, सुय्यश राइ: विशाल, सोनाली राउत: दिया धनराज, नताशा सूरी: गौरी, नितिन अरोरा: जग्गू

अगर इस आर्टिकल से रिलेटेड कोई भी सुझाव और शिकायत है तो हमें digitalworldreview@gmail.com पर मेल करें


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *